मनोरंजन से समाजसेवा तक का बुलंद सफ़र: ज़रीना मेहता

टीवी जगत में नंबरों के खेल को अच्छी तरह समझने वाली ज़रीना मेहता स्क्रूवाला यूनाइटेड टीवी (यूटीवी) की सह-संस्थापक रही हैं. ज़रीना का मानना है कि क्रिएटिव लोगों को क्रिएटिविटी और कॉमर्स को बराबर महत्त्व देना चाहिए. इसके लिए नंबर गेम समझना बहुत ज़रूरी है. ज़रीना ने बच्चों और युवाओं के लिए ढेरों कार्यक्रम बनाये. ज़रीना ने अपनी लीडरशिप में यूटीवी के कई सब्सिडरी चैनल लॉन्च किये और उन्हें पहले पायदान तक पहुंचाया.एक कुशल उद्यमी होने के साथ-साथ ज़रीना समाजसेवा से भी जुड़ी हैं. वर्तमान में ज़रीना स्वदेस फाउंडेशन की मैनेजिंग ट्रस्टी हैं जो भारत में ग्रामीण सशक्तिकरण के लिए काम कर रही है.

ज़रीना मेहता का जन्म वाशिंगटन डीसी में हुआ था. आठ साल की उम्र में वे अपने परिवार के साथ भारत आ गयीं. मुंबई के जे.बी. पेटिट स्कूल फॉर गर्ल्स से स्कूल खत्म करने के बाद मेहता ने सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज से इकोनॉमिक्स में बीए किया. उनके पास ज़ेवियर्स इंस्टीटयूट ऑफ़ कॉमर्स से मार्केटिंग और एडवरटाइजिंग में मास्टर्स की डिग्री भी है.

ज़रीना ने अपने करियर की शुरुआत एक नाटक के प्रोडक्शन मैनेजर के रूप में की थी जिसके प्रोड्यूसर मशहूर थिएटर आर्टिस्ट पर्ल पदमसी थे. इसी दौरान मेहता रॉनी स्क्रूवाला और देवेन खोटे से मिलीं, जिनके साथ 1990 में ज़रीना मेहता ने यूनाइटेड टेलीविज़न की नींव डाली. रॉनी स्क्रूवाला ज़रीना के बिज़नेस पार्टनर के साथ ही उनके पति भी हैं. शुरूआती दिनों में यूटीवी विज्ञापन और कॉर्पोरेट फिल्में बनाता था. चर्चित क्विज शो ‘मशहूर महल’ और ‘ द मैथेमैटिक शो ज़रीना के ही डायरेक्शन में बने. साथ ही ज़रीना ने लाइफलाइन, कांटेक्ट और शकुंतला जैसे कई शो प्रोड्यूस किये.

यूटीवी ने भारत के टॉप एंटरटेनमेंट चैनल्स जैसे ज़ीटीवी, स्टार टीवी और सोनी के लिए कंटेंट प्रोड्यूस किया है. देश का पहला रियलिटी शो ‘सांप सीढ़ी’ और पहला डेली सोप ओपेरा ‘शांति’ ज़रीना, रॉनी और देवेन खोटे के दिमाग की ही देन थी.ज़रीना को अपनी ऑडियंस की अच्छी समझ थी इसीलिए उन्होंने अलग-अलग ऐज ग्रुप की ऑडियंस को टारगेट करके अलग-अलग शो बनाये.

साल 2004 में यूटीवी ने हंगामा टीवी लॉन्च किया. ज़रीना मेहता इसकी सीओओ थीं. मेहता ने अपनी मार्केटिंग स्किल्स से इसे देश में बच्चों का नंबर वन चैनल बना दिया. 2007 में ज़रीना मेहता ने युवाओं को टारगेट करके यूटीवी बिंदास लॉन्च किया. अपनी यूनीक प्रोग्रामिंग के चलते साल 2010 तक ये चैनल देश का नंबर वन यूथ चैनल बन गया. ज़रीना ने खुद यूटीवी की ब्रांडिंग का ज़िम्मा उठाया और इसको एक अलग पहचान दिलायी.

फरवरी 2012 में वाल्ट डिज्नी कंपनी ने यूटीवी को खरीद लिया और जुलाई 2012 में ज़रीना मेहता ने 27 साल इस इंडस्ट्री में काम करने के बाद इस इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया.

ज़रीना मेहता की फाउंडेशन स्वदेस का उद्देश्य महाराष्ट्र के गांवों के 1 मिलियन लोगों को सशक्त बनाना है. उनको बेहतर ज़िन्दगी, अच्छी शिक्षा और रोज़गार के अवसर उपलब्ध करवाना है. स्वदेस का पूरा कामकाज मेहता ही देखती हैं. ज़रीना मेहता को फेमपॉवरमेंट वीमेन अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है.

शक्तिशाली नारी शक्ति के इस सर्वे में फेम इंडिया मैगजीन – एशिया पोस्ट ने नॉमिनेशन में आये 300 नामों को विभिन्न मानदंडों पर कसा , जिसमें सर्वे में सामाजिक स्थिति, प्रतिष्ठा, देश की आर्थिक व राजनीतिक व्यवस्था पर प्रभाव, छवि, उद्देश्य और प्रयास जैसे दस मानदंडों को आधार बना कर किये गये स्टेकहोल्ड सर्वे में स्वदेश फाउंडेशन की मैनेजिंग ट्रस्टी व यूटीवी की को-फाउंडर जरीना मेहता सातवें स्थान पर हैं |