राजस्व एवम् भूमि सुधार व्यवस्था को ऑनलाइन कर जनता को राहत दी विवेक कुमार सिंह ने

1989 बैच के आइएएस अधिकारी विवेक कुमार सिंह वर्तमान में प्रधान सचिव राजस्व एवम् भूमि सुधार विभाग हैं। विवेक कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय से भौतिक विज्ञान में ग्रैजुएशन के बाद फिशरी में पोस्ट ग्रैजुएशन किए हैं। शुरु से ही विवेक कुमार को पढ़ाई के साथ खेलकूद भी बहुत पसंद था। यही वजह रहा कि विवेक दिल्ली और बोकारो दोनों ही जगहों पर चेश प्रतियोगिता और पटना में बैडमिंटन प्रतियोगिता के विजेता रहे। बिहार सरकार के काबिल ऑफिसरों की लिस्ट में शुमार विवेक राज्य में अबतक कई महत्वपूर्ण पदों पर अपना योगदान दे चुके हैं। करियर के शुरुआती दिनों में विवेक पाकुड़ (झारखंड) और रोहतास (बिहार) के जिलाधिकारी रहे। आइएएस से पहले विवेक आइएफएस में प्रोबेशनरी रहे। विवेक कुमार राज्य के लेबर कमिश्नर एवम् सचिव के पद पर पदस्थापित रह चुके हैं। कला, संस्कृति, खेल एवम् युवा विभाग के सचिव के तौर पर इनका कार्यकाल लगभग तीन साल का रहा । इनके कामकाज की सरहाना आज भी की जाती है। खेलकूद के प्रति उदासीनता के कारण इस क्षेत्र में राज्य काफी पिछड़ा हुआ था। ग्रामीण खेलों जैसे खो-खो, कबड्डी से खेल विभाग का और सरकार का ध्यान हट चुका था। विवेक कुमार ने एकबार फिर इन खेलों को राज्य में जिवंत किया। इसके लिए स्कूल और कॉलेज स्तर से खिलाड़ियों का चयन आरंभ किया गया। राज्य में इंडोर- आउडोर स्टेडियमों के निर्माण कार्य को बढावा दिया गया। काम के प्रति जिम्मेदारी की भावना इनके कार्यशैली की विशेषता रही है। कृषि विभाग के प्रमुख सचिव के तौर पर विवेक कुमार  राज्य में कृषि मैप योजना को आरंभ किए। विवेक की एक आदत जो आम से बिल्कुल हटकर है, वो है क्रॉसवर्ड पजल बनाने और सॉल्व करने की आदत। इसकी शुरुआत भी लाल बहादुर शास्त्री एकेडमी, मसूरी से  ही हुई। विवेक कुमार की एक किताब भी आ चुकी है क्रॉसवर्ड पजल पर उसका नाम है ‘अंडरस्टैंड क्रिप्टिक क्रॉसवर्ड-स्टेप बाई स्टेप गाइड’। विवेक कुमार का मानना है कि क्रॉसवर्ड पजल साल्व करने से दिमाग तेज होता है और आपकी ज्ञान का संवर्द्धन भी होता है। राजस्व एवम् भूमि सुधार विभाग के प्रधान सचिव के तौर पर विवेक कुमार राजस्व एवम् भूमि सुधार से जुड़े कामों पर तेजी से काम कर रहे हैं। भू-सर्वेक्षण के द्वारा जमीन का अद्यतन मानचित्र एवं खतियान तैयार करवाने के लिए पहली बार राज्य में आधुनिक तकनीक का उपयोग किया जा रहा है। हवाइ फोटोग्राफी के माध्यम से डिजिटल नक्सा तैयार कर जमीनी सत्यापन के उपरांत खतियान तैयार हो रहा है। सम्पूर्ण राज्य के अद्यतन मानचित्र एवं खतियान, विभागीय वेबसार्इट पर उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। यह भूमि विवाद की समस्या को हल करने की दिशा में एक सार्थक प्रयास है। इस सार्थक प्रयास से किसानों एवं अन्य संबंधित विभागों को आनलाइन भू-अभिलेखों के संबंध में जानकारी लेने में सहुलियत होगी।

फेम इंडिया मैगजीन-एशिया पोस्ट सर्वे के ‘असरदार आईएएस 2018’ के सर्वे में विभिन्न पैरामीटर में की गई रेटिंग में विवेक कुमार सिंह को प्रमुख स्थान पर पाया है।