केरल के डायनमिक राजनेता हैं के सी वेणुगोपाल

युवावस्था से ही राजनीति में सक्रिय के सी वेणुगोपाल को केरल के सबसे डायनमिक राजनेताओं में गिना जाता है. जोशीले किन्तु गंभीर व्यक्तित्व वाले वेणुगोपाल को समाज के सभी वर्गों में बराबर सम्मान प्राप्त है.
कॉलेज के दिनों में ही वे केरल स्टूडेंट युनियन के प्रदेश अध्यक्ष बन गये थे. ये संस्था केरल में नैशनल स्टूडेंट्स युनियन ऑफ इंडिया यानी एनएसयूआई की शाखा है जिसका मुख्यालय अलफुजा में है. जल्दी ही कांग्रेस ने उन्हें अपने साथ मुख्य धारा में जोड़ कर प्रदेश युवा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया.
वे लगातार तीन बार केरल विधानसभा के सदस्य चुने गये और मुख्यमंत्री ओमन चांडी के नेतृत्त्व वाली प्रदेश सरकार में पर्यटन मंत्री भी रहे हैं. हालांकि वे मूल रूप से कन्नूर के रहने वाले हैं, लेकिन उन्होंने पहले विधानसभा और अब लोकसभा दोनों ही के चुनाव में अलफुजा को अपनी कर्मभूमि बनाया. लगातार दो बार कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा पहुंचे वेणुगोपाल यूपीए 2 की मनमोहन सिंह सरकार में ऊर्जा राज्य मंत्री और फिर नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री भी रह चुके हैं.
उन्होंने नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री रहते हुए एयर इंडिया के एक बड़े स्तर पर चल रहे टिकटिंग स्कैम का पर्दाफाश किया और एयर इंडिया को लगातार हो रहे भारी नुकसान से बचाया.
गणित में स्नातक रहे वेणुगोपाल एक उम्दा बास्केटबॉल खिलाड़ी भी रह चुके हैं. वे परियारम मेडिकल कॉलेज और केरल स्पोर्ट्स काउंसिल के सदस्य भी रह चुके हैं.
फिलहाल वे केरल में कांग्रेस की स्थिति मजबूत करने में सक्रिय हैं और उन्हें ईमानदार और कर्मठ राजनेताओं में गिना जाता है. वे सन 2017 से ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटि के महासचिव हैं. वे कांग्रेस आलाकमान के करीबी लोगों में से हैं और उन्हें दक्षिण भारत के वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं में गिना जाता है.