आइएएस ऑफिसर शिशिर कुमार अपनी योग्यता से राज्य के विकास में निभा रहे हैं अहम किरदार

1982 बैच के आइएएस ऑफिसर शिशिर कुमार बिहार के बेगुसराय जिले के रहने वाले हैं। शिशिर दिल्ली के हिंदू कॉलेज से इतिहास विषय में ग्रेजुएट हैं। इसके अलावा शिशिर सिन्हा स्वीडेन से ह्यूमन राइट्स पर एक शॉर्ट टर्म कोर्स भी किए हुए हैं। बिहार प्रशासनिक सेवा के श्रेष्ठ अफसरों में शुमार शिशिर सिन्हा अपने अबतक के 35 साल के करियर में सरकार के साथ कई महत्वपूर्ण विभागों में प्रशंसनीय योगदान दे चुके हैं। वर्तमान में शिशिर सिन्हा राज्य के विकास आयुक्त हैं और बिहार स्किल डेवलपमेंट मिशन के अध्यक्ष भी हैं। ये दोनों ही पोस्ट किसी भी राज्य एवम् सरकार के प्रगति में अहम रोल अदा करते हैं। शिशिर सिन्हा राज्य में कई जिलों के जिलाधिकारी और डिविजनल कमिश्नर के पद पर रहते हुए अपने कुशल नेतृत्व क्षमता का परिचय दे चुके हैं। शिशिर खाद्य आपूर्ति विभाग के प्रधान सचिव भी रह चुके हैं। अपने कार्यकाल में शिशिर राज्य में जन वितरण प्रणाली व्यवस्था को सुदृढ़ किए। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग में प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारियों की नियुक्ति कर व्यवस्था को दुरुस्त किए। प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारियों को विभाग के कार्यो की जानकारी एवं कार्यो को क्रियान्वयित करने के लिए प्रशिक्षित भी किया गया । कर्मचारियों की कमी से कामकाज प्रभावित ना हो इसके लिए संविदा के आधार पर भी नियुक्ति की गई। कैबिनेट कोऑर्डिनेशन कमिटी के प्रमुख सचिव बनने से पहले शिशिर सिन्हा खान एवं भूतत्व विभाग के प्रधान सचिव रहे। राज्य के विकास आयुक्त के तौर पर शिशिर सिन्हा का प्रयास है, नई टेक्नोलॉजी के माध्यम से राज्य के विकास की गति को तेज करना। इसी क्रम में राज्य में दो एंडरॉयड एप ई-पेयजल और ई-चापाकल की शुरुआत की गई है। इन दोनों एप का मुख्य काम है, पूरे बिहार राज्य में चलाई जा रही पीएचईडी योजना के प्रोग्रेस का निरीक्षण करते रहना। एंडरॉयड एप के माध्यम से, राज्य में पाईप एवम् हैंड पंप के द्वारा पानी की सप्लाई पर नजर रखा जा रहा है। ऑनलाइन व्यवस्था होने से जनता भी स्वयं अपनी शिकायतें और उसके हल पर नजर रख पा रही है। इसके द्वारा केंद्रीय शिकायत निवारण प्रणाली को लागू करने की सफल कोशिश हो रही है। ऑनलाइन phedmis.bih.nic.in  पर जाकर इन दोनों एप्स को जनता आसानी से डाउनलोड कर सकती है और अपनी समस्याओं से विभाग को अवगत करा सकती है। इस योजना से काफी अच्छा परिणाम मिलने लगा है। राज्य के विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर करने के लिए भी काफी तेजी से प्रयत्नशील हैं। बाल विवाह और दहेज प्रथा के विरोध में पटना के गांधी मैदान में अब तक का सबसे विशाल मानव श्रृंखला बनाया गया। इसमे सभी धर्म के लोगो ने हिस्सा लिया। शिशिर सिन्हा के कुशल नेतृत्व में राज्य विकास की नई उंचाईयों को छू रहा है।

फेम इंडिया मैगजीन-एशिया पोस्ट सर्वे के ‘असरदार आईएएस 2018’ के सर्वे में विभिन्न पैरामीटर में की गई रेटिंग में शिशिर सिन्हा को प्रमुख स्थान पर पाया है।