कुशल नीतियों से राज्य में खाद्य भंडारण व्यवस्था को मजबूत किया आइएएस ऑफिसर पंकज कुमार

1997 बैच के आइएएस ऑफिसर पंकज कुमार बिहार के बांका के रहने वाले हैं। पंकज कुमार स्वाइल साइंस में एम टेक किए हैं। वर्तमान में पंकज कुमार सचिव, खाद्य एवम् उपभोक्ता संरक्षण विभाग हैं। अतिरिक्त प्रभार के तौर पर पंकज कुमार पर्यटन विभाग के सचिव हैं एवम् प्रबंध निदेशक, बिहार राज्य खाद्य एवम् असैनिक आपूर्ति निगम, पटना हैं। बिहार मंत्री परिषद के निर्णय के आलोक में राज्य खाद्य निगम की संरचना पुनर्गठित हुई है, जो राज्य में प्रभावी हो गई है। बिहार राज्य खाद्य एवं असैनिक आपूर्ति निगम का मुख्य उद्देश्य् राज्य के लोगों को खाद्यान सुगमतापूर्वक उपलब्ध कराने की और किसानों से फसल खरीद की है। इसलिए निगम द्वारा आपूर्ति की पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए पूरे तंत्र को डिजिटलाइज्ड कर दिया गया है, ताकि फसल अधिप्राप्ति व अन्य प्रक्रिया में कोई धांधली न हो पाये। साथ ही बिचौलिये भी निष्क्रिय हों। दारोगा प्रसाद राय पथ, स्थित निगम मुख्यालय में खाद्य भवन का निर्माण भी किया जा रहा है। राज्य में अनाज उत्पादन अधिक हो और उच्च क्वालिटी की हो इसके लिए केंद्रीय टीम और एफसीआइ के अधिकारी धान का सैंपल कलेक्शन कर केंद्र सरकार को रिपोर्ट दिए हैं। सरकार द्वारा खरीफ विपणन सत्र 2017-18 में धान की खरीद का लक्ष्य तय नहीं किया गया है ताकि केंद्र तक आए सारे धान खरीदे जा सकें जिससे किसानों को सीधे राहत पहुंचे। खाद्यान्न की कालाबाजारी मामले में ट्रांसपोर्टरों की भूमिका संदिग्ध होने के कारण पंकज कुमार, अनाज उठाव और वितरण में ट्रांसपोर्टरों की भूमिका की जांच की व्यवस्था चाक-चौबंद करवाए हैं। भागलपुर, पटना और आरा में इसके लिए सघन छापेमारी करवाया गया है। काम के प्रति थोड़ी भी लापारवाही बर्दाश्त ना करने वाले अधिकारी पंकज कुमार ने कालाबाजारी करनेवालों पर नकेल कस दी है।

रेलवे रैक से निकले खाद्यान्न व्यापारियों के निजी गोदाम कैसे पहुंच रहा है इस पर पंकज कुमार ने काफी सख्ती से काम किया है। इसके सकारात्मक परिणाम भी दिखने लगे हैं। इमानदार प्रशासनिक अधिकारी पंकज कुमार के अनुसार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत भारतीय खाद्य निगम और राज्य खाद्य निगम दोनों की ही जिम्मेदारी है कि अनाज का उठाव और वितरण सही हो तथा इसका लाभ गरीबों को मिले। रेल रैक से और एफसीआई रैक से एसएफसी गोदाम तक माल ले जानवाली गाड़ियों के जीपीएस सिस्टम की मॉनीटरिंग भी हो रही है ताकि अनाज के कालाबाजारी पर लगाम लग सके। खाद्य सुरक्षा कवच के अंतर्गत खाद्यान्न उठाव और वितरण का अनुश्रवण एवं पर्यवेक्षण के लिए 24 घंटे नियंत्रण कक्ष कार्यरत किए गए हैं। ई-चालान और जन वितरण प्रणाली दुकान तक डोर स्टेप डिलेवरी के माध्यम से खाद्यान्न की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। कुशल प्रशासन और कारगर नीतियों से पंकज कुमार सचिव खाद्य एवम् उभोक्ता संरक्षण विभाग के तौर पर राज्य को खाद्यान्न की समस्या से पूरी तरह निजात दिलाने में जुटे हुए हैं।
फेम इंडिया मैगजीन-एशिया पोस्ट सर्वे के ‘असरदार आईएएस 2018’ के सर्वे में विभिन्न पैरामीटर में की गई रेटिंग में पंकज कुमार को प्रमुख स्थान पर पाया है।