सियासत में शिक्षा की अलख जगा रहे हैं नितिन नवीन

 

पटना के बांकीपुर विधानसभा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक नीतीन नवीन एक सभ्य, सुशिक्षित और दूरदर्शी व्यक्तित्व के स्वामी हैं। इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पटना के सेंट कैरेंस स्कूल से 8 वीं तक करने के बाद प्लस टू की पढ़ाई दिल्ली कर्नल सतसंगी पब्लिक स्कूल से की। उच्च शिक्षा के लिये बीआईटी मेसरा से इंजीनियरिंग में दाखिला भी हो गया, लेकिन पढ़ाई के दौरान ही पिता की असामयिक मृत्यु 31 दिसंबर 2005 को हो जाने की वजह से कोर्स पूरा नहीं कर सके। इनके पिता स्वर्गीय नवीन प्रसाद सिन्हा भाजपा के वरिष्ठ नेता और तत्कालीन पटना पश्चिम विधानसभा के विधायक थे। पिता की मृत्यु के पश्चात पढ़ाई बीच में ही छोड़ राजनीति में सक्रिय हुए और पिता की मृत्यु से रिक्त हुई सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा ने इन्हें उम्मीदवार बनाया। इस उपचुनाव में क्षेत्र की जनता ने इन्हें अपना अपार मत देकर विधायक बनाया।

नितिन नवीन पहली बार 25 वर्ष 10 महीने की उम्र में बिहार विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। पार्टी ने वर्ष 2008 में इन्हें भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो)के राष्ट्रीय कार्य समिति में शामिल करते हुए असम के प्रभारी नियुक्त किये गये। 2010 में अनुराग ठाकुर की टीम में युवा मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री बने। नए परीसीमन में पटना पश्चिम विधानसभा का नाम बदलकर बांकीपुर विधानसभा होने के बाद 2010 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट से चुनाव लड़े और पुनः विधायक निर्वाचित हुए। 2011 में कश्मीर में हो रहे अलगाववादी ताकतों के विरोध में राष्ट्रीय युवा मोर्चा की राष्ट्रीय युवा एकता यात्रा निकाली गई इस यात्रा में शामिल होने के लिए कई युवा साथियों को कश्मीर भेजने का कार्य किया। 1962 में हुए भारत-चीन युद्ध की 50 वीं वर्षगांठ के अवसर पर वर्ष 2012 में “शहीद श्रद्धांजलि यात्रा” का संयोजक के रुप में गुवाहाटी से अरुणाचल प्रदेश के चाईना बार्डर बोमला तमांग तक की यात्रा किया, इस यात्रा में देश के वर्तमान गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू भी शामिल हुए थे। पार्टी ने 2013 में इनके कार्यक्षमता और पार्टी के प्रति समर्पण को देखते हुए दोबारा युवा मोर्चा का राष्ट्रीय महामंत्री बनाया, इस पद पर 2016 तक रहे।

2015 में बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी ने तीसरी बार इन्हें पार्टी उम्मीदवार बनाकर चुनावी मैदान में उतारा जिसमें विषम परिस्थिति होने के बावजूद विजयी हुए। बेहद शांत और सौम्य स्वभाव के धनी नीतीन नवीन अपने क्षेत्र की जनता के लिए हर वक्त सहज और सुलभ रुप से उपलब्ध रहते हैं। क्षेत्र की जनता के लिए शिक्षा और विकास को इन्होंने प्रमुखता के तौर पर रखा है। वे कहते हैं – “प्रदेश में शिक्षा के सुधार हेतु राजनीति के माध्यम से लगातार प्रयास करता रहूंगा, इसके लिए शिक्षाविदों के साथ मिलकर बिहार की शिक्षा नीति बनाने का हरसंभव प्रयास रहेगा।”