भारतीय आईटी इंडस्ट्री की साम्राज्ञी: नीलम धवन

Hewlett-Packard, HP, Neelam Dhawan

महिला के जीवन में जन्म के साथ अनेक चुनौतियों का भी जन्म होता है. इन चुनौतियों का सामना करते हुए जो अपने रास्ते बनाते-निकालते जाती हैं, उनके हिस्से में कामयाबियां ज़रूर आती है. कुछेक कामयाबियां ऐसी होती हैं जो उन्हें समाज और देश में मिसाल बना देती हैं. सफलता की ऐसी ही चमकदार कहानी हैं नीलम धवन.

नीलम धवन एचपी इंडिया (Hewlett-Packard) की कंट्री मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। वह कंपनी की सॉफ्टवेयर इंजिनियरिंग, रिसर्च और आईटी सर्विसेज़ को हेड करती हैं। नीलम ने परिवार कि जिम्मेदारियां और पेशे के जूनून को बखूबी निभाया. काम को लेकर उनके कमिटमेंट का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि वे अपनी बेटी होने के 7 दिन बाद ही काम पर लौट आयीं थीं. दूसरी तरफ वो अपनी दोनों बेटियों के लिए एक ज़िम्मेदार और आदर्श माँ हैं. परिवार और पेशे के संतुलन ने नीलम को नई-नई ऊँचाइयां दीं.

दिल्ली के प्रतिष्ठित सेंट स्टीफेंस से अर्थशास्त्र में स्नातक करने के बाद नीलम ने डीयू के ही फैकल्टी ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज में एमबीए में दाखिला ले लिया। नीलम ने अपने करियर की शुरुआती दौर में नीलम फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स बनाने वाली एशियन पेंट्स और हिन्दुस्तान यूनीलीवर जैसी कंपनियों द्वारा रिजेक्ट कर दी गयीं थीं. इन कंपनियों का मानना था कि एक महिला मार्केट फेसिंग रोल्स के लिए उपयुक्त नहीं होती है.

लेकिन नीलम ने हार नहीं मानी और आईटी सेक्टर की ओर रुख किया. 1983 में उन्होंने पहली कम्पनी एचसीएल ज्वाइन की, जबकि  इस फील्ड में कई चुनौतियां थीं. लेकिन नीलम ने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से अपनी योग्यता को साबित किया. 1986 में जब एचसीएल ने अपना पीसी बिजीबी मार्केट में रिलीज किया उस समय उसकी मार्केटिंग एक बहुत बड़ा चैलेन्ज थी. नीलम ने ना सिर्फ इसे स्वीकार किया बल्कि मार्केट में पीसी को हिट करवाने में अपनी प्रमुख भूमिका निभायी।

14 साल  एचसीएल में काम करने के बाद नीलम ने कुछ वक़्त आईबीएम में बतौर वाइस प्रेसिडेंट काम किया, लेकिन नीलम को चैलेंजिंग टास्क ज्यादा पसंद थे. 1999 में उन्होंने एचपी ज्वाइन किया. वैसे यह सिर्फ एक एक्सटर्नल कॉन्ट्रैक्ट था. इस दौरान उन्होंने 2005-08 तक अमेरिका में माइक्रोसॉफ्ट में मैनेजिंग डायरेक्टर के पद पर काम किया. 1 जुलाई 2008 को नीलम ने एचपी के प्रबंध निदेशक के रूप में भारत वापसी की। अपनी बेजोड़ मार्केटिंग प्रोफेशनल स्किल के दम पर नीलम ने एचपी इंडिया को आईटी सॉल्यूशन में भी जबरदस्त हिट कराया। ये नीलम की कोशिशों का ही नतीजा है कि आज HP भारत में सबसे ज्यादा भरोसेमंद कंपनियों में से एक है.

फॉर्च्यून मैगज़ीन ने नीलम को साल 2009 की 50 सबसे ज्यादा पावरफुल महिलाओं की लिस्ट में 37वीं पोजिशन पर रखा था। नीलम अपनी सफलता के पीछे अपने परिवार खासतौर पर अपनी सास नोशी धवन और पति अतुल धवन का  योगदान बताती हैं. नीलम को अच्छे कपड़े और एसेसरीज पहनने का काफी शौक है. उनका मानना है कि इससे उनमें आत्मविश्वास पैदा होता है। अपने खाली समय में नीलम परिवार के लिए कुकिंग करना पसंद करती हैं. साथ ही वे घूमना और पढ़ना नहीं भूलतीं.

शक्तिशाली नारी शक्ति के इस सर्वे में फेम इंडिया मैगजीन – एशिया पोस्ट ने नॉमिनेशन में आये 300 नामों को विभिन्न मानदंडों पर कसा , जिसमें सर्वे में सामाजिक स्थिति, प्रतिष्ठा, देश की आर्थिक व राजनीतिक व्यवस्था पर प्रभाव, छवि, उद्देश्य और प्रयास जैसे दस मानदंडों को आधार बना कर किये गये स्टेकहोल्ड सर्वे में एच पी इंडिया की कंट्री एमडी नीलम धवन सोलहवें स्थान पर हैं |