राजनीतिक शुचिता एंव प्रखर राष्ट्रवाद को समर्पित हैं मृत्युंजय झा

जानकी सेना के राष्ट्रीय संरक्षक व युवा भाजपा राजनेता मृत्युंजय झा देश की सेवा को अपना जीवन समर्पित कर चुके हैं। स्वतंत्रता सेनानी परिवार में जन्मे मृत्युंजय झा बाल़्यकाल से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा से जुड़े रहे जहां इनके विचारों में प्रखर राष्ट्रवाद की नींव पड़ी। मात्र 5 साल की आयु में ये वर्ष 1982 में आरएसएस से जुड़े और विभिन्न दायित्वों का निर्वहन करते हुए वर्ष 2003 में त्रिवर्षीय प्रशिक्षण शिविर को पूरा किया।

कॉलेज की शिक्षा के दौरान हजारीबाग में रहे जहां वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े और 1992 से 2001 तक उन्होंने नगर मंत्री से लेकर विभाग संगठन मंत्री तक का सफर तय किया। 2003 में भाजपा ने इन्हें पटना, शाहाबाद और मगध के संगठन का प्रभार दिया। यहां संगठन मंत्री के तौर पर इनके कार्यो से इनकी पहचान कुशल संगठनकर्ता की बनी। वर्ष 2004 में मृत्युंजय झा को महाराष्ट्र भाजपा का बिहार प्रकोष्ठ संगठन प्रभारी बनाया गया। पार्टी ने इनकी संगठन क्षमता, समर्पण और कर्तव्यनिष्ठता को देखते हुए समय-समय पर गुजरात, दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में सहायक चुनाव टीम के नेतृत्व की जिम्मेवारी इनके कंधे पर दी।

गुरु गोलवरकर के राजनीतिक शुचिता और स्वामी विवेकानंद के प्रखर राष्ट्रवाद से प्रभावित मृत्युंजय झा ने देश के विभिन्न राज्यों में समय समय पर आयी बाढ, भूकंप आदि आपदाओं के समय एक स्वयंसेवक के तौर पर हमेशा योगदान दिया है, इस सामाजिक योगदान की वजह से शंभु फॉंडेशन से श्रेष्ठ समाजसेवी सम्मान 2009 सहित कई अवार्ड समय समय पर इन्हें दिया गया।

वर्ष 2010 और 2013 में लगातार बिहार प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में इन्हें प्रदेश मंत्री की जिम्मेवारी दी गयी। पार्टी के कार्यक्रमों में इन्हें हमेशा बड़ी भूमिका निभाने का मौका मिला। इन्होंने सामाजिक जुड़ाव को मजबूत करने के लिहाज से और सामाजिक संस्कृति को मजबूत करने के लिये ‘जानकी सेना’ का गठन किया जो आज देश के प्रमुख सांस्कृतिक जागरण मंचों में शुमार होने की दिशा में अग्रसर है। ये जानकी सेना के द्वारा सामाजिक जातीय भेदभाव को नष्ट करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

हर वर्ष जानकी नवमी पर जानकी रथ यात्रा और महोत्सव का आयोजन मिथिला और सीमावर्ती क्षेत्र में सांस्कृतिक जागरण के साथ ही सामाजिक रुप से क्षेत्र को जोड़ने में बड़ा योगदान कर रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी के युवा चेहरे में मृत्युंजय झा की गिनती चोटी के युवा राजनेताओं में की जाती है जिनके संगठन क्षमता से ही प्रभावित हो सीमांचल के हजारों की संख्या में युवाओं का झुकाव राष्ट्रवाद की ओर बढ़ता जा रहा है।

नरेंद्र मोदी के वैचारिक दृढ़ता के आदर्श से प्रभावित मृत्युंजय झा के राजनैतिक मार्गदर्शक सौदान सिंह, नंदकिशोर यादव को माना जाता है। प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर के सभी बड़े नेताओं से समान संबंध रखने मे निपुण मृत्युंजय झा को फेम इंडिया एशिया पोस्ट यंग लीडर्स 2017 सर्वे में बिहार भाजपा का मजबूत युवा चेहरा माना है जिनकी क्षमता असीमित है।