मोदी के नेतृत्व में देश सही राह पर अग्रसर : संदीप मारवाह

Sandeep Marwah, Narendra Modi, Fame India, Asia Post

भारत एक लोकतान्त्रिक देश है लेकिन कई बार देश की लोकतन्त्र के नाम पर पटरी नीचे भी उतरी है। लेकिन इस देश की सभ्यता और संस्कृति में कुछ ऐसी बात है की देश की सभ्यता और संस्कृति और सिद्धांतों का हमें बार बार बोध होता है, जिसे मुहम्मद इकबाल ने भी कहा है की-

“कुछ बात है कि हस्ती, मिटती नहीं हमारी।
सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-ज़माँ हमारा” !!

आज भारत का राजनैतिक परिदृश्य पूरी तरह से बदलता हुआ नज़र आ रहा है, जहां बात देशप्रेम की हो रही, गौरवपूर्ण

Sandeep Marwah, Narendra Modi, Fame India, Asia Post
संदीप मारवाह

संस्कृति और विकास की हो रही है। बात सिर्फ हो ही नहीं रही है उसके परिणाम भी नज़र आने शुरू हो गए हैं। बड़ी खुशी की बात है जिस भारत के राजनैतिक जगत को लेकर आम जनता के बीच एक हताशा, निराशा, विश्वासघात और अवसरवादिता की चर्चा का माहौल दिखाई देता था अब लोग देश के विकास को लेकर एक सकारात्मक सोच को लेकर आगे बढ़ रहे है। पहले देश के 25 श्रेष्ठ सांसदों को सम्मान के लिए चुना जाना और इसी श्रृंखला में देश के सर्वश्रेष्ठ दस मंत्रियों को सार्वजनिक मंच से सर्वश्रेष्ठ मंत्री के रूप में सम्मानित करने की घोषणा, देश की जनता की बदली हुई सोच को प्रदर्शित करती है। देश हित में लिए गए कुछ महत्वपूर्ण फैसलों में डीमोनिटाइजेशन, जीएसटी, स्किल इंडिया, स्टैंड अप इंडिया, स्वच्छ भारत कुछ ऐसे कदम है जिनसे निश्चित रूप से देश के विकास में मदद मिल रही है।
मैं देश के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी का हृदय की गहराइयों से धन्यवाद अदा करना चाहता हूँ कि उनके प्रयासों से स्किल इंडिया प्रोग्राम के तहत मीडिया उद्योग को पहली बार व्यवस्थित करने का प्रयास किया गया है। मैं पिछले 30 सालों से मीडिया एंड इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से जुड़ा हुआ हूँ और लगभग पिछले 25 वर्षों से निरंतर स्किल इंडिया के विज़न के तहत कार्य कर रहा हूँ। इसलिए माननीय प्रधानमंत्री जी का यह प्रयास न केवल सराहनीय बल्कि प्रशंसनीय भी है। आज संकल्प से सिद्धि तक कार्यक्रम के तहत देश विकास में जो भी योजनाएँ चल रही है उनके पीछे एक गहरी सोच और दूरदर्शिता नज़र आती है।
आज देश के समक्ष तमाम चुनौतियाँ हैं जिन पर एक के बाद एक काबू पाने में हम सफल होते नज़र आ रहे हैं। आम जनमानस और निजी क्षेत्रों ने भी देश हित में अपनी भागीदारी और ज़िम्मेदारी बढ़ाई  है। पूरे विश्व में भारत की छवि पिछले कई सालों में काफी सुधरी है और जिस तरह से भारत विदेशी निवेश की संभावनाएं बनी हैं  उसे देखकर लगता है कि देश की राह सही दिशा में है।
सच, न्याय और प्रयोग के जिन सिद्धांतों की राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने नींव रखी थी, आज उसका स्वरूप बना हुआ नज़र आ रहा है। जिन 10 सर्वश्रेष्ठ मंत्रियों को पुरस्कार के लिए चुना गया है उन्होंने सही मायनों में राजनैतिक सिद्धान्तों की पुनर्स्थापना की है उन सभी कर्मयोगियों को अनंत शुभकामनायें।

(संदीप मारवाह लेखक – प्रसिद्ध शिक्षाविद् व एएएफटी युनिवर्सिटी ऑफ मीडिया एंड आर्ट के चांसलर हैं.)