कैबिनेट सचिव की जिम्मेदारी निभा रहे आईएएस पी के सिन्हा देश के वरिष्ठ नौकरशाहों में से एक

IAS PK Sinha

1977 बैच के आईएएस अधिकारी पी के सिन्हा देश के सबसे वरिष्ठ नौकरशाहों में से एक हैं. फिलहाल वे भारत सरकार के कैबिनेट सचिव की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इस पद पर नियुक्त होने वाले वे 31 वें अधिकारी हैं और सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रिपोर्ट करते हैं। उन्हें 13 जून 2015 को ये जिम्मेदारी दी गयी और उनके काम को देखते हुए बाद में उनका कार्यकाल एक वर्ष के लिए और बढ़ा दिया गया। इससे पहले जुलाई 2013 में उन्हें ऊर्जा सचिव के पद पर नियुक्त किया गया था.

मूल रूप से बिहार के रहने वाले सिन्हा इससे पहले जहाजरानी मंत्रालय में सचिव भी रह चुके हैं. उत्तर प्रदेश काडर के आईएएस अधिकारी के तौर पर उन्होंने केन्द्र और उत्तर प्रदेश सरकार के कई अन्य महत्वपूर्ण पदों पर भी कार्य किया। सिन्हा के करियर की शुरुआत इलाहाबाद में अस्टिटेंट कलेक्टर के रूप में की थी. 1991-92 में वे आगरा के जिलाधिकारी और 1994-95 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौजूदा संसदीय क्षेत्र और तीर्थ नगरी वाराणसी के आयुक्त भी रहे. 1990 के दशक के अंत में वे खेल मंत्रालय में पहले निदेशक और युवा मामलों के संयुक्त सचिव की जिम्मेदारी निभा चुके हैं। 1992-94 के दौरान वे मेरठ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और 2003-04 में ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे। 2004-12 तक यूपीए सरकार के कार्यकाल में वे ज्यादातर समय समय पेट्रोलियम मंत्रालय में थे। पेट्रोलियम मंत्रालय में रहते हुए उन्हें संयुक्त सचिव,  अतिरिक्त सचिव और फिर विशेष सचिव भी बनाया गया।

62 साल के मृदु भाषी सिन्हा का जन्म 18 जुलाई 1955 को हुआ. उनका पूरा नाम प्रदीप कुमार सिन्हा है लेकिन आम तौर पर लोग उन्हें पीके नाम से जानते हैं। उन्होंने अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की और सामाजिक विज्ञान में एमफिल किया। वे फ्रेंच भाषा की पढ़ाई भी कर चुके हैं।. अपनी राष्ट्रिय छवि,कार्यक्षेत्र में सफलता, सामाजिक सरोकार,राज्य से जुड़ाव और देश में बड़ा प्रभाव बना कर इन्होने बिहार का मान देश दुनिया में बढाया है ,उपरोक्त पॉंच मानदंड पर एशिया पोस्ट व फेम इंडिया मैगजीन द्वारा किये गये सर्वे में देश के 100 प्रभावशाली व्यक्तियों में इन्हे प्रमुख स्थान पर पाया गया है,  टीम फेम इंडिया की तरफ से हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.