प्रधानमंत्री की दूरदर्शी योजना स्वच्छ भारत अभियान को हर घर का अभियान बनाया चैतन्य प्रसाद

1990 बैच के आइएएस ऑफिसर चैतन्य प्रसाद भौतिक शास्त्र से पोस्ट ग्रैजुएट हैं। आईआईटी कानपुर के छात्र रहे श्री प्रसाद राज्य व केन्द्र सरकार में कई अहम पदों पर कार्यरत रहे हैं। श्री चैतन्य प्रसाद को सरकार ने अति महत्वपूर्ण, नगर विकास विभाग की जिम्मेदारी सौपी है। इससे पहले चैतन्य प्रसाद सहकारिता विभाग के सचिव थे। चैतन्य प्रसाद के पास कला, संस्कृति एवं युवा विभाग का भी अतिरिक्त प्रभार है। चैतन्य प्रसाद की गिनती राज्य के कुशल, तेज-तर्रार अधिकारियों में होती है। कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग के प्रधान सचिव चैतन्‍य प्रसाद की हर संभव कोशिश है कि बिहार के अतीत के गौरवशाली सांस्कृतिक इतिहास को दोबारा भारत और विश्व के मानचित्र पर स्थापित किया जाए। बिहार की कलाओं को सहेजने के लिए बिहार म्‍यूजियम, कंवेंशन हॉल सहित पटना में 25 से ज्‍यादा अत्‍याधुनिक प्रेक्षागृह बनाए गए हैं| 19 अक्‍टूबर 1917 को बिहार की सांस्‍कृतिक पहचान के रूप में विश्‍व विख्‍यात चंवरधारिणी यक्षिणी की पाषाण मूर्ति दीदारगंज पटना से मिली थी|19 अक्टूबर 2017 को, 100 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में ‘बिहार कला दिवस’ के रुप मनाया गया। साथ ही हर वर्ष 19 अक्टूबर को बिहार कला दिवस के रुप में मनाना तय हुआ। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में बिहार से 142 शहर भाग ले रहे हैं। 27 शहर अमृत योजना के तहत राष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं। इस बार कुल 44 प्रश्न पूछे जाएंगे, नगर निकाय की जनता उन प्रश्नों का जवाब अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से बताएगी। गया में नगर विकास की बड़ी समस्या है, खासकर पेयजल की। चैतन्य प्रसाद गया के जिलाधिकारी रह चुके हैं, ऐसे में वहां की जनता के बीच, चैतन्य प्रसाद के नगर विकास विभाग के सचिव बनते ही काफी उम्मीदें जाग उठी हैं। पूरे प्रदेश में नगर विकास के काम में तेजी लाते हुए स्ट्रीट लाइट के लिए अलग से बिजली की तार लगाई जा रही है। इसी तरह उचित दर पर डस्टबिन की खरीदारी भी की जा रही है। स्वच्छता अभियान के तहत शहरों, गांवों, मोहल्लों एवं वार्डों में सफाई की व्यवस्था चाकचौबंद की जा रही है। जन-प्रतिनिधियों पर काम में किसी तरह की कोताही का आरोप ना लगे,  इसका भी विशेष ख्याल रखा गया है। प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद की कोशिश है कि जल्द से जल्द निचले स्तर पर कर्मचारियों की कमी  पूरी हो जाए। इसके लिए विभाग तत्परता से काम कर रही है। विभाग का कामकाज सुचारु रुप से चले इसके लिए कर संग्रह पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ऐसी वयवस्था की जा रही है कि शहर का हर व्यक्ति होल्डिंग टैक्स दे जिससे शहर की सुविधाओं के लिए बेहतर कार्य किए जा सके।

फेम इंडिया मैगजीन-एशिया पोस्ट सर्वे के ‘असरदार आईएएस 2018’ के सर्वे में विभिन्न पैरामीटर में की गई रेटिंग में चैतन्य प्रसाद को प्रमुख स्थान पर पाया है।