मीडिया को सफलता की राह दिखाते हैं अनुराग बत्रा (फेम इंडिया-एशिया पोस्ट मीडिया सर्वे 2018)

Anurag Batra , Media , Fame India , Asia Post , Asia Post Survey

 

अनुराग बत्रा का ज़िक्र होते ही एक ऐसे आशावादी व्यक्तित्व का खयाल आता है जिसने यह सिखाया कि कम प्रॉफिट वाले मीडिया बिजनेस को भी अगर प्रोफेशनल और एथिकल तरीके से चलाया जाये तो उसे भारी मुनाफे के कारोबार में बदला जा सकता है। उन्होंने मीडिया की रटी-रटायी परिपाटी को पढ़ने और उसपर अमल करने की बजाय अपनी तर्ज पर अपने नियम खुद लिखे। आज वह एक ऐसी मिसाल बन चुके हैं जो विफलता को भी सफलता में बदलने में माहिर हैं। उनके पोर्टल एक्सचेंज4मीडिया और समाचार4मीडिया जहां एक ब्रांड बन चुके हैं वहीं उन्होंने बिजनेस वर्ल्ड और गवर्नेंस नाउ जैसे नामों को भी नयी पहचान दी है।

एक शिक्षक परिवार में 27 अगस्त 1972 को जन्मे अनुराग बत्रा की शुरुआती पढ़ाई गुड़गांव के ‘अवर लेडी ऑफ फातिमा कॉन्वेंट’ हाई स्कूल से हुई। ऐकेडेमिक्स में अनुराग बत्रा शुरू से आगे रहे हैं। 1994 में उन्होंने महर्षि दयानंद युनिवर्सिटी से कंप्युटर साइंस में ए ग्रेड हासिल कर बीटेक किया। 1996 में गुड़गांव के प्रतिष्ठित मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट से ए प्लस श्रेणी लेकर मार्केटिंग मैनेजमेंट में एमबीए किया।

अनुराग बत्रा शुरु से ही अपने लक्ष्य के प्रति बेहद समर्पित रहे हैं। महज दो-तीन साल विभिन्न संस्थानों में शुरुआती अनुभव हासिल करने के बाद ही उन्हें दुनिया की सबसे प्रतिष्ठत ऐड मार्केटिंग एजेंसी जे वॉल्टर थॉमसन के दिल्ली ऑफिस का हेड तथा मीडिया प्लानर बनने का मौका मिला। लेकिन अनुराग की मंजिल ये नहीं थी। उन्होंने मीडिया की ताकत पहचानते हुए वर्ष 2000 में एक मीडिया पोर्टल एक्सचेंज4मीडिया की शुरुआत की। यह भारत में अपनी तरह का पहला प्रयोग था और काफी सफल रहा। हर मीडिया कर्मी के बीच यह पोर्टल जानकारी और सूचना का एक विश्वसनीय स्रोत बनकर उभरा और आम आदमी के बीच भी मीडिया जगत की खबरों का इकलौता पोर्टल बन गया।

अनुराग बत्रा ने मीडिया के साथ इवेंट को जोड़ने का अनोखा प्रयोग किया जिसने उनके व्यापार को नयी ऊंचाइयां दीं। उनके लगभग हरेक मीडिया वेंचर के साथ उससे जुड़े वर्ग के लिये एक सम्मान या पुरस्कार समारोह आयोजित होता है। उनके प्रमुख वेंचरों में एक्सचेंज 4 मीडिया डॉट कॉम, पिच़, इम्पैक्ट, रियल्टी प्लस और फ्रैंचाइज प्लस आदि शामिल हैं। उन्होंने आनंद बाजार पब्लिकेशन से बिजनेस वर्ल्ड खरीदा तो यह मीडिया की दुनिया में एक नयी खबर थी। इससे पहले किसी पोर्टल मालिक ने किसी मेनस्ट्रीम मीडिया का अधिग्रहण नहीं किया था। एक्सचेंज4मीडिया के साथ ही समाचार4मीडिया, बिजनेस वर्ल्ड मैगज़ीन, गवर्नेंस नाऊ मैगजीन के प्रकाशक व चीफ एडीटर होने के साथ ही देश दुनिया मे मीडिया और मार्केटिंग आदि से जुड़ी करीब 250 कंपनियों से ज्यादा इवेंट भी करवाते हैं।

अनुराग बत्रा के मीडिया और बिजनेस के क्षेत्रों में किये गये काम को कई अवार्ड्स के जरिये सराहा गया है। उन्हें सैकड़ों अवॉर्ड मिल चुके हैं। 2005 की शुरुआत में पुणे के इंदिरा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट्स ने यंग मार्केटर आफ द ईयर से सम्मानित किया। इसके बाद 2006 की शुरुआत में उनके पूर्व कॉलेज एमडीआई और अल्मा ने उनको मोस्ट डिस्टींग्विश अल्मी आफ द डिकेड अवॉर्ड से से सम्मानित किया।

अनुराग के काम को सराहना देने के लिए उन्हें कई समितियों में स्थान दिया गया है। दिल्ली मैनेजमेंट एसोसिएशन की बिक्री और विपणन समिति के सदस्य, नार्थन भारत के फ्रैंचाइजिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं। इतना ही नहीं अनुराग एसोसिएशन ऑफ इंडियन मैगजीन (एआईएम) की कार्यकारी समिति में भी शामिल हैं। वे भारत के अग्रणी मीडिया स्कूल एफएमसीसी (फ्यूचरिस्टिक मीडिया कम्युनिकेशन सेंटर) के सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं। वे मीडिया, इंटरनेट, टेलीविज़न, मीडिया नीति और उद्यमिता पर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों पर एक नियमित वक्ता भी हैं।

इनके अलावा अनुराग बत्रा प्रो रेसलिंग लीग की टीम दिल्ली सुल्तांस के मालिक भी रह चुके हैं। अनुराग अपने खिलाड़ियों को प्रोत्साहन देते रहते हैं। उनका मानना है कि खेल में हार-जीत चलती रहती है और उनको अधिक खिलाड़ियों और उनके कोचों के चेहरों पर अधिक निराशा होता है। इस निराशा को दूर करने और अगले मैच में बेहतर प्रदर्शन के लिए वह उन्हें प्रोत्साहित करते हैं।

अनुराग के बारे में कहा जाता है कि उनका सपना भारतीय मीडिया को एक ऑर्गेनाइज उद्योग की तरह खड़ा करने का है। साथ ही वे चाहते हैं कि शिक्षा के लिए कुछ अच्छा हो सके। वे लगातार इसी कोशिश में लगे हैं कि भारतीय मीडिया में बदलाव हो और वह और डिजिटल, जिसकी पहुंच का दायरा हर आम-औ-खास के बीच हो। अपने इस मकसद को पाने के लिए अनुराग बेपरवाह बस आगे बढ़ रहे हैं। फेम इंडिया-एशिया पोस्ट मीडिया सर्वे 2018 में अनुराग बत्रा को भारतीय मीडिया के एक प्रमुख सरताज के तौर पर पाया गया है।