फेम इंडिया – एशिया पोस्ट सर्वे के 100 प्रभावशाली की सूची में प्रमुख स्थान पर हैं एनडीटीवी के सीनियर एग्जीक्यूटिव एडिटर रवीश कुमार

एनडीटीवी के सीनियर एग्जीक्यूटिव एडिटर रवीश कुमार की अपनी शैली अपना ढंग,  बेहद साधारण अंदाज में बहुत बड़ी बात कह देने का तरीका इन्हें एक अलग पहचान देता है. इनके पॉपुलर प्रोग्राम में “प्राइम टाइम”,  “हम लोग” और “रवीश की रिपोर्ट” शामिल है. न्यूज़ इंडस्ट्रीज में लगातार प्रयोग करने की इनकी कोशिश लोगों को बहुत पसंद है वहीं बड़े से बड़े राजनेताओ को अपने तर्क से निरुत्तर कर देना इन्हें आता है. इन्हें हिंदी पत्रकारिता और रचनात्मक साहित्य के लिए राष्ट्रपति द्वारा 2010 में प्रतिष्ठित गणेश शंकर विद्यार्थी अवार्ड से सम्मानित किया गया है,  इन्हें 2013 में रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस इन जर्नलिज्म अवार्ड मिला और 2014 में इंडियन न्यूज़ टेलीविज़न अवार्ड में सर्वश्रेष्ठ न्यूज़ एंकर का ख़िताब भी मिला है. रवीश कुमार 2016 के  इंडियन एक्सप्रेस की 100 सबसे प्रभावशाली भारतीय की सूची में भी शामिल है.

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन से जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएट रवीश ने अपनी डिग्री की पढ़ाई देशबंधु कॉलेज,  दिल्ली विश्वविद्यालय से की है. इनका जन्म बिहार में पश्चिमी चंपारण जिले के मोतिहारी में हुआ,  शुरुआती शिक्षा लोयोला हाई स्कूल,  पटना में हुई.

एनडीटीवी से 15 सालो से जुड़े रवीश की पहचान सामाजिक मुद्दों पर आधारित कार्यक्रम “ रवीश की रिपोर्ट “ से व आम लोगों की राय से जुड़ी  “हम लोग“ नाम के कार्यक्रम से बढ़ी,  पत्रकारिता की पढ़ाई करने वाले युवाओं के आदर्श के रूप में स्थापित रवीश कुमार बहुआयामी व्यक्तित्व जैसे कवि, कहानीकार, लेखक, फिल्म समीक्षक इत्यादि है, इनका एक अपना ब्लॉग भी है, इनकी लिखी किताबों में  2010 में प्रकाशित “देखते रहिये” और 2015 में प्रकाशित “इश्क में शहर होना” शामिल है.

एशिया पोस्ट – फेम इंडिया के 100.प्रभावशाली व्यक्तियों के सर्वे में ख्याति-प्राप्त पत्रकार रवीश कुमार प्रमुख स्थान पर है.