मराठी राजनीति के सर्वाधिक उर्जावान युवा है आदित्य ठाकरे

युवा,ओजस्वी और जोशीले 28 वर्षीय आदित्य ठाकरे राजनीति के उर्जावान युवा चेहरा हैं. पार्टी के अधिकतर कार्यकर्ताओं उनमें बालासाहेब की छवि देखते हैं । आदित्य शिवसेना की युवा सेना प्रमुख हैं. 19 जून 2018 को इनकी शिवसेना में नेता के रूप में ताजपोशी हुई है.

13 जून 1990 को मुंबई,महाराष्ट्र में जन्मे आदित्य ठाकरे की शुरूआती पढ़ाई बॉम्बे स्कॉटिश स्कूल से हुई है. इन्होंने सेंट ज़ेविएर्स कॉलेज, मुंबई से हिस्ट्री में बीए किया है और केसी लॉ कॉलेज से एलएलबी की डिग्री प्राप्त की है. आदित्य ठाकरे एक कवि भी हैं। बॉम्बे स्कॉटिश
स्कूल में पढ़ाई के दौरान आदित्य का अंग्रेजी में एक कविता संग्रह ‘माई थॉट इन ब्लैक ऐंड व्हाइट’ प्रकाशित हुआ था. इनका ये कविता संग्रह हिंदी और मराठी में भी छप चुका है। इसके अलावा इनके लिखे गए गीतों का एल्बम “उम्मीद” भी लांच हो चुका है।

आदित्य के राजनीति में आने का संकेत उद्धव ने 2008 में ही दे दिया था। 2009 के चुनाव में आदित्य ने शिवसेना के लिए प्रचार भी किया था. 2010 में आदित्य ने ‘युवा सेना’ के जरिए अपनी राजनीतिक पारी का आगाज़ किया जिसकी शाखाएं महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य
प्रदेश, केरल और जम्मू-कश्मीर में हैं. आदित्य शिक्षा की बेहतरी और युवाओं को रोज़गार दिलाने की दिशा में काम कर रहे हैं. उनका प्रयास है कि पाठ्यक्रम जॉब ओरिएंटेड हो ताकि युवाओं को नौकरी में दिक्कत ना हो. पर्यावरण को लेकर भी आदित्य काफी जागरुक हैं. ये इन्हीं के प्रयासों का परिणाम है कि महाराष्ट्र सरकार ने प्लास्टिक के उपयोग के विरोध में एक्ट बनाया है और इसे सख्ती से लागू भी
कर रही है. आदित्य ने किसी भी अपराध से बचाव के लिए जूडो / कराटे का प्रशिक्षण देने के लिए पहल की है। साथ ही म्युनिसिपल
स्कूलों में बाल स्वास्थ्य देखभाल के आंदोलन की शुरुआत भी की है। उनकी पार्टी को उनसे काफ़ी उम्मीदें हैं. आदित्य ठाकरे शिवसेना को राष्ट्रीय पार्टी के तौर पर पहचान दिलाने के लिए जी-जान से जुटे हुए हैं.