फेम इंडिया -एशिया पोस्ट सर्वे 25 चर्चित आईपीएस

राष्ट्र एंव प्रदेश की तरक्की सुदृढ़ कानून व्यवस्था और आंतरिक सुरक्षा से ही संभव है। इनमें आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) अधिकारियों की शीर्ष भूमिका होती है। कानून व्यवस्था में सुधार और भयमुक्त समाज का निर्माण किसी भी सरकार के लिए प्राथमिकता के साथ ही साथ बड़ी चुनौती भी होती है। जिस राज्य में कानून व्यवस्था कमजोर होती है, राष्ट्रिय स्तर पर उस राज्य की छवि बेहद खराब होती है और उसका असर प्रदेश के सर्वागीण विकास पर भी पड़ता है। सख्त कानून व्यवस्था को बहाल करने, पुलिस का मनोबल बढ़ाने और अपराध पर अंकुश लगाने में कप्तान की भूमिका अहम होती है । ऐसे में आईपीएस अधिकारी की जिम्मेवारी बहुत बड़ी हो जाती है, क्योकि वह जहां जिस पद पर अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहे होते हैं वहां के वे कप्तान होते हैं। कहीं एस पी तो कहीं एस एस पी या फिर डी आई जी, आई जी, एडीजी या डीजीपी के तौर पर वह अपने पद की गरिमा, अपने कर्त्तव्य का ईमानदारी पूर्वक निर्वहन रहे होते हैं। करीब एक दशक पूर्व बिहार की छवि कानून व्यवस्था के मामले में बहुत खराब थी। ऐसी परिस्थिति में राज्य के मुख्यमंत्री ने सक्षम आईपीएस अधिकारियों पर भरोसा कर उन्हे मुख्य पदों पर पदस्थापित करने व विभिन्न जिलों की कमान सौपने का निर्णय लिया।
सुपर कॉप्स के रुप में इन पुलिस अधिकारियों ने बिहार को सुदृढ़ कानून व्यवस्था वाले प्रमुख राज्यों की श्रेणी में खड़ाकर, राज्य की छवि को राष्ट्रिय और अंतरराष्ट्रिय स्तर पर निखारा। इनके प्रयासों से कानून व्यवस्था में सुधार हुआ और एक भयमुक्त समाज के निर्माण आरंभ हुआ। बदलते बिहार ने आर्थिक और औद्योगिक प्रगति की दिशा में जो कदम बढ़ाये हैं, उसमें अपने उत्कृष्ट कार्यों से राज्य की प्रतिष्ठा बढ़ाने वाले पुलिस अधिकारियों की भूमिका को नकारा नही जा सकता है। लॉ एंड आर्डर में सुधार और क्राईम कंट्रोल के कारण न केवल बिहार की छवि सुधरी है बल्कि इस एक प्रमुख कारण ने मुख्यमंत्री नीतिश कुमार की छवि ‘सुशासन बाबू’ की बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस अंक मे फेम इंडिया ने सुप्रसिद्ध सर्वे एजेन्सी ‘एशिया पोस्ट’ के साथ मिलकर क्राईम कंट्रोल, लॉ एंड आर्डर में सुधार, पीपुल्स फ्रेंडली और सजगता आदि सात प्रमुख बिंदूओं पर बिहार में पदस्थापित आई पी एस अधिकारियों का सर्वेक्षण करवाया है । इस सर्वे में उच्च रेटिंग पाने वाले 25 प्रमुख चर्चित आईपीएस अधिकारियों का परिचय प्रकाशित करते हुये हमें गर्व महसूस हो रहा है। परिचय का अनुक्रम सीनियरिटी के आधार पर है। सकारात्मक पत्रकारिता के वायदे को कायम रखते हुये फेम इंडिया कानून व्यवस्था के इन चर्चित आईपीएस ऑफिसर्स को बेहतर व श्रेष्ठ कार्य के लिये सैल्यूट करता है। क्योकि हमारा मानना है ‘सोच बदलने से ही बदलता है समाज’।