नेक नियत , मजबूत इरादे के धनी है प्रवेश वर्मा

राजनीति को समाज सेवा का माध्यम मानने वाले युवा सांसद प्रवेश वर्मा दिल्ली से सांसद हैं. इस युवा नेता में समाज के लिए कुछ करने का जज़्बा कितना प्रबल है ये आपको इनके कामों से ज्ञात हो जाएगा- साल 2000 में गुजरात में भूकंप आने के बार कच्छ के दो गांवों और उड़ीसा में तूफ़ान आने के बाद उजड़ चुके चार गांवों को इन्होने फिर से बसाया है . कारगिल में शहीद हुए 260 शहीदों के परिवारों को 1-1 लाख रूपये की आर्थिक मदद की. गरीब लड़कियों की शादी करवाते हैं. लोगों को जागरुक करने के उद्देश्य से शैक्षणिक कार्यक्रम आयोजित करवाते हैं .
प्रवेश वर्मा के पिता साहिब सिंह बीजेपी के वरिष्ठ नेता और दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री थे. साल 2007 में एक कार दुर्घटना में इनके पिता का देहांत हो गया इसके बाद प्रवेश ने राजनीति में आने का इरादा किया. वर्ष 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में पार्टी ने जब इन्हें महरौली विधानसभा सीट से टिकट मिला , इस चुनाव में प्रवेश की माँ साहिब कौर और पत्नी स्वाति सिंह वर्मा ने उनके लिए कैंपेनिंग की. इस चुनाव में प्रवेश को जीत हासिल हुई . साल 2014 के आम चुनाव में बीजेपी ने प्रवेश को पश्चिम दिल्ली से टिकट दिया, इस चुनाव में प्रवेश वर्मा रिकॉर्ड मार्जिन से जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे.

7 नवंबर 1977 को जन्मे प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने दिल्ली के किरोड़ीमल कॉलेज से स्नातक किया है और फोर स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट से बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स किया है.