कोयला सेक्रेटरी सुशील कुमार 100 प्रभावशाली व्यक्ति (बिहार) फेम इंडिया मैगजीन – एशिया पोस्ट सर्वे में प्रमुख स्थान पर

कोयला सचिव सुशील कुमार 1982 बैच के उत्तरप्रदेश कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं। लगभग 35 वर्षों के कार्यकाल में वे कई महत्त्वूर्ण प्रशानिक पदों की जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं। वे पर्यावरण वन एंव जलवायु परिवर्तन, शहरी विकास, उद्योग वस्त्र, पर्यटन, जल संसाधन, जहाजरानी आदि मंत्रालयों में सेवाएं दे चुके हैं। इससे पहले वे गृह मंत्रालय के विशेष सचिव रह चुके हैं। उन्हें सीमा प्रबंधन विभाग के सचिव की जिम्मेदारी दी गयी थी।
कोयला सचिव के तौर पर कोयला क्षेत्र में व्यावसायिक खनन के रास्ते खोलने का श्रेय उन्हें ही जाता है। उनके कार्यकाल के दौरान कोयला खदानों को व्यावसायिक खनन के लिए आबंटित करन का काम किया गया। कोयला खनन में तेजी लाने के साथ साथ उन्होंने पर्यावरण नियमों की अनदेखी करने वालों के कान उमेठने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी।
प्रशासनिक कुशलता और सराहनीय कार्यों को देखते हुए सुशील को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। कुशल प्रशासक और अपने दाइत्व के प्रति कर्तव्य निष्ठ सुशील की गितनी देश के वरिष्ठतम अधिकारियों में की जाती है। प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर 35 वर्ष के कार्यकाल के दौरान उन्होंने कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य करते हुए अहम जिम्मेदारियां निभायी हैं। रियल स्टेट बिल तैयार करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही जिसे बाद में 2016 में ससंद की मान्यता के बाद  कानून बना दिया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष के तौर पर उन्होंन प्रदूषण नियंत्रण के लिए कई आईडिया लागू किए।
पर्यावरण के लिए संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क लागू करने के लिए हुए समझौते में उन्होंने भारत के प्रतिनिधि के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। वे भारत की ओर से मुख्य वार्ताकार थे। दिसंबर 2015 में उन्होंने पेरिस समझौते में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया।
मूल रूप से बिहार से ताल्लुक रखने वाले सुशील कुमार का जन्म 21 अप्रैल 1958 को हुआ। उन्हें 1 सितंबर 1982 को प्रशानिक सेवा में शामिल किया गया। सुशील ने भौतिक विज्ञान में एमएससी और एमफिल की पढ़ाई की है। उन्होंने ब्रिटेन के बर्मिंघम विश्विद्यालय से एमबीए की डिग्री भी हासिल की है।अपनी राष्ट्रिय छवि,कार्यक्षेत्र में सफलता, सामाजिक सरोकार,राज्य से जुड़ाव और देश में बड़ा प्रभाव बना कर इन्होने बिहार का मान देश दुनिया में बढाया है ,उपरोक्त पॉंच मानदंड पर एशिया पोस्ट व फेम इंडिया मैगजीन द्वारा किये गये सर्वे में देश के 100 प्रभावशाली व्यक्तियों में इन्हे प्रमुख स्थान पर पाया गया है,  टीम फेम इंडिया की तरफ से हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.