किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं सर्वश्रेष्ठ एंकर, सर्वश्रेष्ठ प्रोड्यूसर और रिपोर्टर का अवॉर्ड जीतने वाली श्वेता सिंह

सर्वश्रेष्ठ एंकर, सर्वश्रेष्ठ प्रोड्यूसर और रिपोर्टर का अवॉर्ड जीतने वाली श्वेता सिंह किसी परिचय की मोहताज नहीं है। आप आज तक के बहुत सारे शो में एक खूबसूरत चेहरे को हँसते मुस्कुराते न्यूज़ पढ़ते देखते होंगे। यह चेहरा कोई और नहीं श्वेता सिंह हैं। श्वेता सिंह के पास नूर है, टीवी पत्रकारिता की भाषा है, खबरों को परोसने की बेहतरीन, अद्भुत कला है और यही श्वेता सिंह की यूएसपी है। श्वेता सिंह अपनी बेख़ौफ़ पत्रकारिता के लिए जानी जाती हैं। तकरीबन 25 सालों से ज्यादा समय से मीडिया से जुड़ी श्वेता को राजनीति से लेकर खेल, बिज़नेस, सिनेमा हर क्षेत्र में महारथ हासिल है। टीवी न्यूज़ के मामले में भी श्वेता ऑलराउंडर हैं।

श्वेता सिंह का जन्म बिहार के पटना में 21 अगस्त 1977 को हुआ था। जब वह पटना यूनिवर्सिटी से स्नातक की फर्स्ट ईयर की पढ़ाई कर रही थी तभी उन्होंने खुद को मीडिया से जोड़ लिया था। पत्रकारिता की पढ़ाई करने के बाद टाइम्स ऑफ़ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स जैसे अंग्रेजी अखबार से पत्रकारिता की शुरुआत की। इलेक्ट्रानिक मीडिया में उन्होंने 1998 से कदम रखा है। आज तक ज्वाइन करने से पहले उन्होंने जी न्यूज और सहारा में भी काम किया है। उन्होंने आज तक 2002 में ज्वाइन किया।
आजतक ने न सिर्फ उनकी प्रतिभा को पहचाना बल्कि उसको निखारने का मौका भी दिया। इन्हें राजनीति से लेकर खेल, बिज़नेस, सिनेमा हर क्षेत्र में महारथ हासिल है। इसमें कोई शक नहीं कि श्वेता खेल की खबरें कवर करने और परोसने में मास्टर है। वर्ल्ड कप, २०-२० वर्ल्ड कप, टेस्ट मॅचेस, आईपीएल, फूटबाल, ओलंपिक गेम्स, ओडीआई, आदि खेल जगत से जुडी खबरों में उनकी बेहतरीन पकड़ दिखी। उनके खेल आधारित शो सौरव का सिक्सर ने स्पोर्टस जर्नलिज्म आफ इंडिया 2005 का अवार्ड जीता। टीवी न्यूज़ के मामले में भी श्वेता ऑलराउंडर हैं। उन्हें सर्वश्रेष्ठ ऐंकर, सर्वश्रेष्ठ प्रोड्यूसर और रिपोर्टर का अवॉर्ड मिल चुका है। उनको 2013 में बेस्ट एंकर का अवार्ड मिल चुका है। श्वेता सिंह को पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए दादा साहेब फाल्के फिल्म फाउंडेशन के बेस्ट जर्नलिस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है। श्वेता ने कुछ फिल्मों में भी शिरकत की जिसमें से एक चक्रयुद्ध भी है। इसमें श्वेता आजतक की ही प्रेजेंटेटर बनी थीं।
श्वेता को खाली समय में घूमने का शौक है। साथ ही उनको पढ़ने और लिखने का भी शौक है। व्यस्त दिनचर्या के कारण उनको इसके लिए ज्यादा समय नहीं मिल पाता है पर फिर भी वह कोशिश करती है कि प्रसिद्ध लेखकों की लेटेस्ट किताबें पढ़ सकें।
फिलहाल श्वेता सिंह आजतक के स्पेशल प्रोग्रामिंग टीम की एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं। ऊपरवाला देख रहा है, वंदेमातरम, आजतक का गांव कनेक्शन इस टीम के बनाए हुए चुनिंदा कार्यक्रमों में शामिल हैं। श्वेता आजतक पर रोज़ रात 9 बजे आने वाले न्यूज़ बुलेटिन ख़बरदार की ऐंकर भी हैं। साथ ही अलग-अलग मुद्दों पर उनका कार्यक्रम श्वेतपत्र अपनी एक अलग पहचान बना चुका है।
मीडिया जगत में श्वेता सिंह ने अपनी अलग पहचान बनाई है । उनके सोशल मीडिया पर फेन्स फॉलोवर्स है। देश दुनिया में लाखो दर्शक श्वेता सिंह की एंकरिंग और रिपोर्टिंग को देखना पसंद करते है। श्वेता के ट्वीट को लगातार फॉलो भी करते है। श्वेता लम्बे अरसे से राजनीति, करेंट अफेयर्स, विदेशनीति, आंतकवाद, नक्सलवाद, भारत-पाक सम्बन्ध, पाकिस्तान तख्तापलट या किसी राज्य की राजनीतिगत गंभीर, संवेदनशील विषयों में परिपक्व हैं। यही कारण कि आज वह इतनी सफल हैं।फेम इंडिया मैगजीन -एशिया पोस्ट सर्वे के 25 प्रभावशाली नारी शक्ति में – महिला सशक्तिकरण, नेतृत्व क्षमता, छवि, परिश्रम, निरंतरता जैसे पॉंच बिंदूओं पर हुये सर्वे में श्वेता सिंह को समाज के सशक्तिकरण के लिये इनके मजबूत प्रयासों के कारण चुना गया है।